Thursday, November 1, 2012

ETERNITY......


कल की तरह -
आज मेरी ये शाम
फिर से तुम्हारे करीब है.

कल की तरह ,
आज भी  इन नज़रों में
तुम्हारी ही नजीर है.

सुबह की ख़ुशगवार हवा में,
तुम्हारे होने का एहसास है
हाँ , मुझे पता है-
हवा में मुस्कराती,
तुम्हारी   ही नमी है.

उस वक़्त का बीत जाना
अब रश्क़ नहीं देता
वही वक़्त बनकर वापस आ जाना
तुम्हारी खूबी यही है.

आज फिर से  बैठा हूँ,
अपनी शाम के साथ
घर के इस दरवाज़े पर
कुछ भी तो  नहीं बदला
देखो-
मेरा इंतज़ार अब भी वही है.

कल की तरह -
आज मेरी ये शाम
फिर से तुम्हारे करीब है..................